September 21, 2021

हल्द्वानी लाइव

आपकी आवाज़

फोन कॉल फ्रॉड से सावधान

लॉटरी वाले फोन कॉल का मायाजाल !

उत्तराखंड – ऋषिकेश– सावधान! लॉटरी वाली फोन कॉल का मायाजाल ! कहीं आप भी तो नहीं हो रहें हैं साइबर क्राइम का शिकार। अनचाही कॉल से रहें सर्तक । अपनी निजी जानकारियां किसी से न करें साझा। मोबाइल पर आने वाला ओटीपी,पासवर्ड किसी से न करें शेयर । अपने डेविट या क्रेडिट कार्ड का पिन नंबर भी किसी को न बताएं ।

अनजान फोन कॉल से रहें बचकर!

अगर आपने ऐसा किया तो यकीन मानिए आपकी गाढ़ी कमाई पर कोई भी हाथ नहीं फेर सकता। लेकिन अगर आपने ज़रा सी भी चूक और लापरवाही बरती तो आपको बैठे बिठाए लग सकती है मोटी चपत ।

आपकी एक लापरवाही से आपकी जिन्दगी भर की कमाई आपके हाथों से निकल सकती है। ये हम नहीं कह रहे, ये जानकारी सामने आई है देशभर में हो रहीं तमाम साइबर क्राइम की घटनाओं के बाद।

मामला उत्तराखंड के ऋषिकेश का है। जहां एक शख्स 2 साल तक अपनी कमाई मुफ्तखोरों में बांटता रहा। और ये सब हुआ मोबाइल पर आई एक कॉल के बाद।  साल 2018 में योगेन्द्र कुमार नाम के एक शख्स के मोबाइल पर एक अनजान कॉल आती है। फोन करने वाला बोल रहा था… “ हैलो, मैं इश्योरंस कम्पनी से बोल रहा हूं, मुबारक हो! आपने 25 लाख की लॉटरी जीती है, जिसके लिए आपको जीएसटी समेत एक छोटा सा अमाउंट बैंक में ट्रांसफर करना होगा।

फोन पर न करें किसी को पैसा ट्रांसफर

और इसके बाद योगेंद्र और फोन करने वाले के बीच लंबी बात हुई। फोन पर बातचीत के बाद योगेंद्र दो सालों तक उस फोन करने वाले शख्स को लगातार पैसे भेजता रहा, ये सोंचकर कि वो पैसे उसे वापस मिलेंगे। ये सब करते करते  25 लाख की लॉटरी के चक्कर में योगेद्र अपने 8 लाख रुपये गंवा चुका था। जिसका खुद योगेंद्र को भी अंदाज़ा नहीं हुआ।

लेकिन दो साल बीत जाने के बाद एक दिन योगेंद्र को लगा कि हर रोज़ उस शख्स की डिमांड बढ़ती जा रही थी। और उसे लगने लगा कि वो किसी जालसाजी का शिकार हो चुका है। इसके बाद योगेंदर बिना वक्त गंवाये मार्च 2020 में थाना लक्ष्मण झूला पहुंचा और वहां अपने साथ हुई वारदात की  शिकायत दर्ज करवाई।

इसके बाद थाना लक्ष्मण झूला पुलिस फौरन हरकत में आई। पुलिस टीमें बनीं और मामले की तफ्तीश शुरू हुई। पुलिस की इंवेस्टिगेशन रंग लाई। और योगेंद्र के साथ जालसाजी करने वाले तीनों अऱोपियों आदित्य, सुमित और आकाश कश्यप को गिरफ्तार कर लिया गया।

लॉटरी वाली फोन कॉल से सावधान

इस पूरे मामले की तफ्तीश के बारे में खुलासा करते हुए थाना प्रभारी प्रमोद उनियाल ने बताया कि आदित्य नाम का शख्स इस पूरी ठगी का मास्टरमाइंड था। पुलिस अब भी तमाम एंगलों से मामले की जांच में जुटी है और ये पता लगाने की कोशिश कर रही है कि आदित्य और उसके साथियों ने अब तक कितने लोगों को अपनी जालसाजी का शिकार बनाया।

Share, Likes & Subscribe