September 22, 2021

हल्द्वानी लाइव

आपकी आवाज़

छात्र संगठन ने की चीफ प्राक्टर से बहस

परीक्षा परिणामों में गड़बड़ी, जांच की मांग !

एमबीपीजी कॉलेज में छात्र नेताओं ने जमकर हंगामा किया। 17 दिसम्बर को दोपहर चीफ प्राक्टर डॉ. विनय विद्यालंकार और डॉ. महेश कुमार कुछ अन्य लोगों के साथ एमबीपीजी कॉलेज के गेट पर बीए और बीएससी विद्यार्थियों से पूछताछ कर रहे थे। इसी बीच कुछ छात्र नेता गेट पर प्राचार्य को ज्ञापन देने की बात करने लगे। जिसके बाद चीफ प्राक्टर ने छात्रों को गेट पर ही ज्ञापन देने को कहा। लेकिन ये छात्र अपनी ज़िद्द पर अड़े रहे।

चीफ प्राक्टर और अन्य प्राचार्य से बहस करते छात्र
चीफ प्राक्टर और अन्य प्राचार्य से बहस करते छात्र

इनमें से कुछ छात्र नेता सीधे प्रिंसिपल के ऑफिस में घुस गए और बुधवार को घोषित हुए परीक्षा परिणामों में गड़बड़ी का आरोप लगाते हुए परीक्षा परिणामों की सही जांच की मांग की।
जिसके बाद प्रिंसिपल रुम में प्राक्टर और अन्य लोग भी पहुंचे। प्राक्टर डा. विनय विदद्यालंकार ने छात्रों से ज्ञापन गेट पर क्यों नहीं दिया, इसके बारे में पूछा। छात्रों की तरफ से सही जवाब न मिलने के चलते प्राक्टर विद्यालंकार और अन्य प्राध्यापकों ने इन्हें रुम से बाहर निकाल दिया।

इधर, गुस्साए छात्र नेताओं ने और छात्रों को इकट्ठा कर कॉलेज में घुसने की कोशिश की, जिसके बाद प्राक्टर विद्यालंकार खुद प्राचार्य रुम के आगे खड़े हो गए, और छात्रों को कक्ष में घुसने से रोक दिया। इस पर छात्र नेताओं ने कॉलेज में जमकर हंगामा मचाया। जिसकी सूचना तुरंत भोटिया पड़ाव पुलिस चौकी को दे दी गई।

छात्र नेताओं ने अन्य छात्रों को इकट्ठा कर कॉलेज में घुसने की कोशिश की
छात्र नेताओं ने अन्य छात्रों को इकट्ठा कर कॉलेज में घुसने की कोशिश की

एमबापीजी कॉलेज के प्राचार्य डा. बी आर पंत ने बताया, कि पिछले तीन दिनों से छात्र नेता अपने साथियों के साथ एसओपी का उल्लंघन करते हुए जबरन परिसर में घूम रहे थे। इस मामले में अयाज अंसारी, अजहर मलिक, अनस सिद्दिकी समेत पांच अन्य अज्ञात विद्यार्थियों के खिलाफ पुलिस में नामजद तहरीर दर्ज कराई गई है। जिसके बचाव में छात्र नेता अयाज अंसारी ने कहा, कि 16 दिसम्बर को आए परीक्षा के परिणाम में बड़ी संख्या में स्टूडेंट्स फेल हुए हैं। इसी सम्बन्ध में हम कॉलेज में ज्ञापन देने गए थे, लेकिन हमारे गुरुजनों ने हमारे साथ अभद्रता की।

Share, Likes & Subscribe