September 22, 2021

हल्द्वानी लाइव

आपकी आवाज़

हरिद्वार में हर इंतजाम फेल, भारी पड़ी आस्था

हरिद्वार में पितृ अमावस्या पर लोगों ने बड़ी मात्रा में पहूंचकर कोरोना संक्रमण के कहर को काफी हद तक बढ़ावा दिया है। हरकी पैड़ी में लोगों की तदात उमड़ पड़ी। कोरोना संक्रमण को ध्यान में रखते हुए पुलिस के निगरानी में स्नान, श्राध्द और तर्पण की व्यवस्था की होने के वावजूद लोग हर नियम का उलंघन करते दिखें। वहीं सोशल डिस्टेंसिंग की भी खूब धज्जियां उड़ाई गई।

पितृ अमावस्या के मौके पर हरकी पैड़ी पर हर साल हजारों की संख्या में भीड़ जमा होती है। लेकिन इस बार कोरोना संक्रमण के कारण प्रशासन  ने मंगलवार रात हरकी पैड़ी पर स्नान, श्राद्ध  और तर्पण पर रोक लगाने का फैसला किया था।

वहीं, गंगा स्नान के लिए पंहुचे लोग  बिना मास्क लगाए दिखे साथ ही उन्होंने सोशल डिस्टेंसिंग का भी कोई ख्याल नहीं रखा। कुछ गिने-चुने लोग ही मास्क में नजर आए। लोग ने हरकी पैड़ी ब्रह्मकुंड पर तर्पण कर पूर्वजों को याद किया। हालांकि, कई जगह पुलिस ने लोगों के इस उमड़ते भीड़ को हटाने की कोशिश की लेकिन उनकी एक न चली।

जब बुद्धवार को श्री गंगा सभा, तीर्थ पुरोहितों और वयापारी को प्रशासन के  इस बात की जानकारी मिली तो उन्होंने इसका विरोध किया। सिटी मजिस्ट्रेट जगदीश लाल और सिओ पुर्णिमा गर्ग ने सभा के अध्यक्ष प्रदीप झी से बात की। गांगा सभा का कहना था कि हरकी पैड़ी को बंद रखना सही नहीं है।

हर बर्ष देश के कई हिस्सो से लोग यहां अपने- अपने पुर्वजों के नाम से पूजा-आरती करने आते हैं। फिलहाल, भीड़ के कारण श्रीनारायणी मंदिर के कपाट बंदकर दिए गए हैं, जिससे की कोरोना के संक्रमण को रोका जा सके। अब इस कपाट को शक्रवार को खोला जाएगा।  श्रध्दालुओं के लिए इस मंदिर के द्वार बृहस्पतिवार को केवल सुबह और शाम की आरती के लिए ही खोला जाएगा।

Share, Likes & Subscribe