September 23, 2021

हल्द्वानी लाइव

आपकी आवाज़

जंगलों में जाड़े की आग ने तोड़ा गर्मियों का रिकॉर्ड !

उत्तराखंड- हल्द्वानी-  साल 2020 मानों लोगों पर सितम ढ़ाने ही आया था. कोरोना महामारी ने देश में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में आतंक मचा रखा है. उत्तराखंड के जंगलों में भी 2020 ने खूब सितम ढाया है. 2020 में अक्टूबर से दिसम्बर तक वनाग्नि की जितनी घटनाएं घटित हुई हैं, उसने एक नया रिकार्ड कायम कर दिया है. इस दौरान राज्य भर में करीब 240 घटनाएं दर्ज हुई हैं.

उत्तराखंड में जंगलो की आग ने तोड़ा गर्मियों का रिकोर्ड
उत्तराखंड में जंगलो की आग ने तोड़ा गर्मियों का रिकोर्ड

जानकारी के मुताबिक इन हादसों में साढ़े पांच हजार पेड़ जलकर खाक हो गए. अक्टूबर दिसम्बर तक राज्य में आग की जो घटनाएं हुईं हैं, उनको काबू करने लगभग 10 लाख रुपये खर्च किए गए हैं. आग से हुए हादसों में सबसे ज्यादा पौड़ी में 115.6 हेक्टेयर, उत्तरकाशी में 38.8 हेक्टेयर और अल्मोड़ा में 61.5 हेक्टेयर भूमि का नुकसान हुआ है.

आग लगने की मुख्य वजहें

– सर्दियों में कम बारिश और बर्फबारी.

– लॉकडाउन के चलते लोग जंगलों से सूखे पत्ते और लकड़ियां नहीं उठा पाए जो जमा होती गईं. 

– लॉकडाउन में पूरी छूट के बाद लोगों ने शिकार के लिए भी जंगल में आग लगानी शुरु की.

 – सर्दियों में आग जलाने के बाद उसे ऐसे ही छोड़ दिया जाता है.

अक्टूबर से दिसम्बर तक उत्तराखंड में 240 वनाग्नि के हादसे
अक्टूबर से दिसम्बर तक उत्तराखंड में 240 वनाग्नि के हादसे

साल के अंत में हुई वनाग्नि की वारदातों ने गर्मियों का भी रिकार्ड तोड़ा है.  फरवरी से जून तक गर्मियों में आग की महज 157 घटनाएं दर्ज की गईं. जिसमें करीब 250 हेक्टेयर जंगल जल गए.

मान सिंह मुख्य वन संरक्षक ने कहा, कि यब तो उत्तराखंड के जंगलों में हर  साल आग लगती है. लेकिन पिछले साल सर्दियों में आग की सबसे ज्याद घटनाएं सामने आई. इसका पिछला रिकार्ड उपलब्ध नहीं है, क्योंकि इसकी कभी जरुरत ही नहीं पड़ी. विभाग हमेशा 15 फरवरी के बाद ही मॉनिटरिंग करता है. पहली बार ऐसा हुआ है, कि अक्टूबर से मॉनिटरिंग शुरु की गई. तापमान बढ़ते ही घटनाएं और बढ़ने की आशंका के चलते तैयारियां शुरु कर दी गई हैं.

Share, Likes & Subscribe