दुनिया में लहराया परचम

Haldwani Live उत्तराखंड का नाम रौशन करने वालों की फेहरिस्त में अब तीन नाम और जुड़ गये हैं, ये तीन शख्सियत हैं अपनी सोरोवर नगरी नैनीतान के जाने माने अंतरराष्ट्रीय छायाकार अनूप शाह, माउंट एवरेस्ट पर फतह हासिल करने वाली देश की पहली महिला पर्वतारोही बछेंद्री पाल और तीसरी शख्सियत हैं लोकगायक प्रीतम भरतवाण।

मौका था राष्ट्रपति भवन में आयोजित देश के प्रतिष्ठित पुरस्कार वितरण समारोह का, इस मौके पर देश के प्रथम नागरिक यानि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने समारोह में इस साल की 112 हस्तियों को पद्म  पुरस्कार से सम्मानित किया। राष्ट्रपति ने पहले 1 पद्म विभूषण, 8 पद्म भूषम और 46 पद्मश्री से हस्तियों को नवाज़ा था और अलग-अलग क्षेत्रों में योगदान के लिए चयनित शख्सियतों को रविवार को देश के प्रतिष्ठित पुरस्कार देकर सम्मानित किया।

फोटोग्राफी में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी छायाकारी का लोहा मनवा चुके अनूप शाह को पद्मश्री पुरस्कार से स्ममानित किया गया।

छायाकार : अनूप शाह

नैनीताल निवासी शाह को ये पुरस्कार छायाकारी के साथ-साथ पर्यावरण संरक्षण क्षेत्र में उनके उल्लेखनीय योगदान के लिए प्रदान किया गया। वहीं राज्य की महिला शख्सियत पर्वतारोही बछेन्द्री पाल को पद्म विभूषण से नवाज़ा गया।

बछेंद्री पाल माउंट एवरेस्ट फतह करने वाली पहली भारतीय महिला हैं। जबकि बछेन्द्री दुनिया की 5वीं महिला पर्वतारोही हैं। इसके अलावा लोक-कला में उत्कृष्ट योगदान के लिए लोकगायक प्रीतम भरतवाण को पद्म पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

रविवार को राष्ट्रपति के हाथों इस बार देश की चार महान शख्सियतों को पद्म विभूषण पुरस्कार मिला। जिनमें लोक गायिका तीजन बाई और लेखक बलबंत मोरेश्वर पुरंदरे के नाम शामिल हैं। तो वहीं वैज्ञानिक नांबी नारायण, देश के हर घर की रसोई में जायका पहुंचाने वाले एमडीएच मसाला कंपनी के मालिक धर्मपाल गुलाटी और हिंदुस्तान की पहली महिला माउंट वरेस्ट विजेता बछेंद्री पाल को पद्म भूषण पुरस्कार मिला। इनके अलावा फुटबॉल खिलाड़ी सुनील छेत्री, बम्बेला देवी लेशराम, क्रिकेटर गौतम गंभीर, एचएस फुल्का, अभिनेता मनोज बाजपेयी, स्वप्र चौधरी को भी पद्मश्री पुरस्कारों से अलंकृत किया गया।    

Share, Likes & Subscribe