तीन तलाक़ पर “बे-तलाक़” हुए “मोदी” विरोधी…!…

Triple Talaq
तलाक़” की त्रासदी

#HaldwaniLive #TripleTalaq तलाक़ एक ऐसी त्रासदी है जिसने तमाम हमसफरों को अलग किया…जिसने कई मुहब्बत करने वालों को जुदा किया…कई शादियां तोड़ीं… तो कई मासूमों को उनकी मासूमियत से मरहूम किया…तलाक़ की त्रासदी सिर्फ दो पति-पत्नी ही नहीं झेलते, बल्कि इस त्रासदी की जद में दो परिवार आते हैं…और उसका ख़ामियाजा भुगतती हैं उनकी वो मासूम औलाद…जो मां-बाप के झगड़े का शिकार हो जातीं है…

Triple Talaq ki Trasdi
“तीन-तलाक़” से बर्बाद हुए सैकड़ों परिवार

बहरहाल पिछले करीब 2 साल से देश में #TripleTalaq #ट्रिपलतलाक का मुद्दा जिस तेजी से उठा…उसने एक ख़ास मजहब के लिए भारतीय कानून में पुराने बनाये कानून पर विचार करने को मजबूर कर दिया…जिस तरह से ट्रिपल-तलाक के मुद्दे को लेकर सरेआम सड़कों पर वो महिलाएं उतर कर जंग करने को मजबूर हो गई…जिन्होंने कभी अपने पति के घर की दहलीज़ तक नहीं लांघी थी…लेकिन उनके ज़हन के अंदर रिसते हुए तलाक़ के ज़हर ने उसे सबके सामने उगलने को मजबूर कर दिया..या यूं कहें कि पूरी दुनिया को अपने दर्द से रू-बरू करवा दिया…

Stop Triple Talaq
                               “तीन-तलाक़” के चलते लांघी घर की दहलीज़

#तीनतलाक की इस जंग पर मौजूदा मोदी सरकार के सामने उन लाचार पीढ़ित महिलाओं ने अपनी फरियाद रखी…अपनी आवाज़ को बुलंद किया…जिनके मन की पीढ़ा को समझते हुए मोदी सरकार ने कढ़ा और लचीला रुख़ अख्तियार किया…क्योंकि मोदी सरकार यानी भगवा का ठप्पा लिये सरकार…मोदी सरकार यानि सिर्फ हिंदुओं के हितों की रक्षा करने वाली सरकार…

Asududdin Owaisi in Parliament on Triple Talaq
तीन-तलाक़ पर बे-तलाक “ओवैसी”

जिस विशेष संप्रदाय की महिलाएं अपने हितों की रक्षा के लिए अपनों के सामने मिन्नतें कर करके हार गईं…तब जाकर उन्होंने एक ऐसी सरकार के सामने फरियाद रखी…जिसको उनके रहनुमा सिर्फ एक विशेष जाति संप्रदाय वाले लोगों की सरकार मानते थे…क्योंकि उन्हें लगता था, कि मौजूदा सरकार अपना वोट बैंक नहीं बिगाड़ेगी…और उनके संप्रदाय की महिलाओं की आवाज़ को अनसुना कर देगी…लेकिन ऐसा हुआ नहीं…

मौजूदा मोदी सरकार ने तीन तलाक के मुद्दे को गंभीरता से लिया…कोई कहे कि वोट बैंक की ख़ातिर तीन तलाक मुद्दे को मोदी सरकार ने संज़ीदगी से लिया…तो यही सही…लेकिन इस गंभीर मसले पर महत्वपूर्ण कदम उठाया…गुरुवार को मोदी सरकार ने तीन तलाक मुद्दे पर एतिहासिक फतेह हासिल की…तीन तलाक जैसे गंभीर मसले पर लोकसभा में तमाम संशोधन प्रस्ताव ख़ारिज हुए…लेकिन आख़िरकार #केंद्र सरकार का #मुस्लिम वुमेन प्रोटेक्शनऑफ राइट्स ऑन मैरिज बिल” आसानी से पारित हो गया।

Minister Of Law and Justice Of India
लोक सभा में तीन-तलाक़ बिल पर बहस करते “कानून मंत्री” रवि शंकर प्रसाद

गुरुवार को लोकसभा में दिनभर#TripleTalaq मुद्दे पर पक्ष और विपक्ष में बहस हुई…सरकार की ओर से केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बिल पेश किया और सरकार की ओर से मोर्चा संभाला तो दूसरी तरफ विपक्ष की ओर से असदुद्दीन ओवैसी इस बिल के कई प्रावधानों की खिलाफ़त करते रहे…क्योंकि ओवैसी इस बिल को मुस्लिमों के खिलाफ़ बताकर इसे जेल भेजने की साज़िश करार दे रहे थे। जिसमें ओवैसी ने बिल में तीन संशोधन प्रस्ताव रखे…इनके अलावा बीजू जनता दल के सांसद #भ्रातहररिमहताब और कांग्रेसी सांसद #सुष्मितादेव ने भी संशोधन के प्रताव रखे, लेकिन वोटिंग के दौरान इन सभी के प्रस्ताव ख़ारित हो गये।  जिसके बाद शुरू हुई वोटिंग में तीन तलाक बिल आसानी से पास हो गया…बिल के पास होने की ख़बर लगते ही उन सभी महिलाओं में खुशी का माहौल छा गया…जिसकी जद में आकर वो दर-बदर की ठोकरें खाने को मजबूर थीं…दरअसल ये फतह है मुस्लिमों के पवित्र कुरान की उन आयतों की जिसमें तीन तलाक को कहीं से भी वैध नहीं कहा गया है…इसे कुछ विषम परिस्थियों में ही इस्तेमाल करने की ह़िदायत दी गई है…लेकिन इसके वेज़ा और बे-रोक इस्तेमाल ने साबित कर दिया था…कि वाकई में लोग धर्म की आढ़ में इसका ग़लत इस्तेमाल करने पर उतारू थे…आज वास्तव में धर्म की रक्षा हुई है …कुरान की उन आयतों की रक्षा हुई, जिसमें इसे बेहद विषम स्थितियों में ही इस्तेमाल करने को कहा गया है।    

Share, Likes & Subscribe

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *