“मियां” अब ग़ल्ती से भी न बोल दीजिओ… तलाक़-तलाक़-तलाक़ ..!…वरना सीधे हवालात

Triple Talaq Ban In India
तीन-तलाक –  ग़ैर कानूनी घोषित

हल्द्वानी #HaldwaniLive #BolHaldwaniBol तलाक़-तलाक़-तलाक़… मियां अगर ग़ल्ती से भी बोल बैठे तो सीधे 3 साल की हवालात…और ज़ुर्माना भी भरना पड़ेगा आपको…अरे भाई ख़ाम-ख्वाह गुस्सा हो रहे हैं…ये हम थोड़े कह रहे हैं हैं…अमां-मियां ये तो गुरूवार को लोकसभा में जो बिल पारित हुआ है न… तीन-तलाक विधेयक” …उसकी सबसे अहम लाइन हैं ये…ज़रा ग़ौर से पढ़ लीजिए…

“मुस्लिम वुमेन प्रोटेक्शन ऑफ़ राइट्स ऑन मैरिज बिल” यानि विधेयक की सबसे अहम बातें :

  • तीन-तलाक-बिल के तहत अब अगर किसी शख्स ने अपनी बीबी को तीन—तलाक़ बोला तो उसे सीधे 3 साल की जेल के साथ-साथ ज़ुर्माना भी भरना होगा.
  • तीन-तलाक़ बोलने वाले पति पर इस ज़ुर्माना राशि को तय करने का अधिकार मजिस्ट्रेट के पास होगा।
  • अगर किसी भी शौहर ने मोबाइल मैसेज़…फेसबुक…ट्विट्र या फिर Whats App जैसे सोशल-मीडिया प्लेटफार्म के ज़रिए तीन-तलाक का फरमान अपनी बीबी को  भेजा तो वो तलाक़ गैरकानूनी होगा.

दरअसल तीन—तलाक के गंभीर मसले से जूझती #मुस्लिममहिलाओं को सबसे पहले अगस्तत 2017 में सुप्रीम-कोर्ट से राहत मिली थी…जिसमें तीन तलाक को गैरकानूनी और असंवैधानिक घोषित करार दिया गया…जिसके बाद से ही इस मुद्दे पर राजनीति शरू हो गई थी…और केंद्र सरकार ने इस मुद्दे पर सख्त रुख अख्तियार कर इसे लोकसभा में पारित कर इसे असंवैधनिक करार दे दिया। अब इस बिल को राज्य-सभा में पारित किया जायेगा…जिसमें इस बिल के पारित होते ही इसे कानून की शक्ल मिल जायेगी…लेकिन राज्य सभा में तीन तलाक़ के बिल को पास कराना इतना आसान भी नहीं होगा…क्योंकि तीन तलाक मुदेदे पर कांग्रेस समेत एआईएम, मुस्लिम-लीग, राजद और अन्नाद्रमुक जैसे दलों का जो अडियल रवैय्या देखने को मिल रहा है, वो इस बिल को पारित होने में सबसे बड़ी बाधा बनकर सामने आयेगा। लेकिन जिस तरह से लोक-सभा में तीन तलाक़ बिल पर विपक्ष के कई नेताओं ने अपनी सहमति देकर इसे पास कराने में अहम भूमिका निभाई है…वो इस बिल को राज्य सभा में पारित होने और उसे कानूनी शक्ल दिलाने की केंद्र सरकार की इस बाधा को थोड़ा आसान ज़रूर कर देगी।     

 

Share, Likes & Subscribe

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *