उत्तराखंड- रामनगर- हल्द्वानी लाइव , पहले उसकी दरिंदगी की हद तक पिटाई हुई, पति के आत्याचार से तंग आकर पत्नी अपने मायके चली गई ताकि जिंदगी महफूज़ रह सके। लेकिन एक रोज़ पति का फोन आया और फिर…जो कुछ उसने बोला पत्नी की सांसे ही थम गईं।

पति कह रहा था कि आज के बाद वो दोवारा घर वापस न आए और वो उसे तलाक दे रहा है।   

ये कोई कहानी नहीं बल्कि हकीकत है। हकीकत एक महिला की, पत्नी की , मां की और किसी मां की बेटी की। रामनगर के आदर्शनगर पुछड़ी में रहने वाली गुलिस्तां की जिंदगी उसके अपने ही पति ने नासूर बना दी है। जानकारी के मुताबिक गुलिस्तां की शादी करीब तीन साल पहले मुहल्ले के ही एक नौजवान से हुई थी। शादी के बाद कुछ दिन तक तो गुलिस्तां की जिंदगी गुलज़ार रही लेकिन कुछ ही दिनों बाद उसकी जिंदगी नर्क से से भी बद्तर हो गई।

इस नर्क सी जिंदगी के बीच वो मां भी बनीं। 2 साल के बच्चे की मां है गुलिस्तां और इस वक्त पांच महीने के गर्भ से भी है। गुलिस्तां ने पति की पिटाई से तंग आकर पति का घर छोड़ अपने घर का रूख कर लिया। ताकि पेट में पल रहे बच्चे को महफूज़ रख सके। लेकिन पति की हैवानियत फिर भी नहीं रुकी।

जिसके बाद गुलिस्तां राज्य महिला आयोग की पूर्व उपाध्यक्षा अमिता लोहनी से मिलीं और एक शिकायती पत्र दिया।  जिसमें गुलिस्तां ने अपना सारा दर्द वयां किया। गुलिस्तां ने आरोप लगाया है कि उसका पति उसे छोड़ना चाहता है इसलिए वो उसके साथ आए दिन मारपीट करता है। साथ ही आरोप लगाया कि वो उसे घर का खर्चा भी नहीं देता। बल्कि मायके से पैसा लाने का दबाव बनाता रहता है।

आरोप तो ये भी है कि पति ने दो बार उसका गर्भपात भी करवाया। लेकिन बीते इतवार के रोज़ पति की मारपीट और गालीगलोज से तंग आकर और जान बचाकर वो अपने मायके चली आई।

गुल्से से आग बबूला गुलिस्तां के पति ने फोन कर उसे तलाक देने की बात कही और साथ दोवारा घर नहीं लौटने की धमकी भी दी है।

इस पूरे मामले की लिखित शिकायत मिलने के बाद पूर्व महिला आयोग की उपाध्यक्षा अमिता लोहिनी ने आरोपी महिला को कोतवाली ले जाकर पुलिस को सारी घटना की शिकायत दी। बहरहाल पुलिस ने महिला के पति को मामले की जांच के लिए कोतवाली बुलाया है। ताकि पति को समझाया जा सके और एक हंसता खेलता परिवार बचाया जा सके।     

Share, Likes & Subscribe