धृतराष्ट्र सरकार..अधिकारी कोर्ट के द्वार..रसूख़दार लोगों की जीत..फिर शुरू हुआ अवैध निर्माण…!

सोई सरकार , भवाली में सील बंद भवनों में बदस्तूर जारी है अवैध निर्माण
फाइल – सोई सरकार , भवाली में सील बंद भवनों में बदस्तूर जारी है “अवैध निर्माण”

नैनीताल #Bhowali #BolUttarakhandBol हमारे नैनीताल ज़िले में हो क्या रहा है…सरकार आख़िर चाहती क्या है…?…सरकार की अनदेखी चे चलते #Nainital ज़िले में अवैध निर्माण का काम तेज़ी पकड़ चुका है…हमारे ख़ूबसूरत झीलें के शहर में पहले से ही कंक्रीट की इमारतों ने हरियाली को नेस्तेनाबूद कर दिया…बाकी की कसर वर्तमान सरकार की अनदेखी के चलते पूरी हो रही है…

पीसीएस अफसरों के तबादले के चलते शासन और प्रशानिक अधिकारियों की लड़ाई ने हमारे खूबसूरत नैनीताल को अनदेखा कर दिया…दाज्यू आप बिल्कुल ठीक समझे…हम बात कर रहे हैं अपने ज़िले के ज़िला विकास प्राधिकरण सचिव पद को लेकर अधिकारियों…सरकार और हाईकोर्ट के बीच चल रहे खेल की…इस खेल में सरकार की हार खुल कर सामने आ चुकी है…और यही वजह है कि ज़िले में अवैध निर्माण करने वालों की पौ-बारह हो रखी है…बावजूद इसके प्रशासन पूरी तरह आंखे मूंदे बैठा है…और पहाड़ को खोखला करने वाले अवैध निर्माण माफिया बैख़ौफ हैं…

हैरानी की बात तो ये है, कि दिसंबर में ज़िला विकास प्राधिकरण लागू हुआ…शासन ने #PCSShrishKumar को ज़िला विकास प्राधिकरण सचिव पर तैनात किया…श्रीश कुमार ने पदभार ग्रहण करते ही हमारे ख़ूबसूरत शहर को अवैध निर्माण से बचाने की कवायद शुरू कर दी…अवैध निर्माण करने वालों पर प्रशासन ने शिकंजा कस दिया…उस वक्त तैनात ज़िला विकास प्राधिकरण सचिव श्रीश कुमार ने नैनीताल ज़िले के भवाली क्षेत्र में 23 अवैध निर्माण पर शिकंजा कर उन्हें सील कर दिया था…जिसके अगले ही दिन इलाके के #SDMABHISEKHROHILA अभिषेक रूहेला ने उसी इलाके में अवैध रूप से बन रहे 6 भवनों का निरीक्षण भी किया था…अवैध रूप से पहाडों पर बन रहे भवनों को सील करने के बाद इलाके के लोगों में प्राधिकरण सचिव श्रीश कुमार के ख़िलाफ़ नाराजगी पनप गई…इनमें से कुछ अवैध निर्माण करने और करवाने वाले इलाके के रसूख़दार लोग थे…इन्हीं नाराज़ रसूख़दार अवैध निर्माण कराने और करवाने वालों ने प्राधिकरण के सचिव श्रीश कुमार की शिकायत शासन से कर दी…

जिसके ठीक एक महीने बाद ही शासन ने अपनी तबादला लिस्ट में प्राधिकरण के सचिव का नाम भी चस्पा कर ट्रांसफर आदेश सुना दिया…और उनकी जगह हरवीर सिंह को प्राधिकरण का सचिव बना दिया…तबादला लिस्ट में आये नाम को और जूनियर – सीनियरटी के खेल को देखकर सीनियर पीसीएस अधिकारी श्रीश कुमार ने शासन के तबादला आदेश को फौरन #NainitalHighCourt हाईकोर्ट में चुनौती दे दी…और मा. हाईकोर्ट ने यथास्थिति बनाये रखने का आदेश दे दिया…जिसके बाद बेखौफ़ सत्ता के करीबी अवैध निर्माण करने वाले रसूखदार लोग फिर से अवैध निर्माण में लग गये…इन रसूखदार लोगों की हिम्मत तो देखिए कि भवाली पालिका इलाके के श्यामखेत और कहलक्वीरा में जिन भवनों को अवैध निर्माण को तत्लकालीन सचिव श्रीश कुमार ने सील किया था… सत्ता के करीबी इन लोगों ने फिर से अवैध निर्माण करवाना शुरू कर दिया… प्रशासन की आंखों के सामने अवैध निर्माण यानि #IllegalConstruction  चालू है…सरकार को भी सब पता है, कि पहाड़ों का सीना चीरकर सील किये जा चुके अवैध निर्माण भवनों में अवैध निर्माण का काम दोवारा शुरू हो चुका है…लेकिन शासन और प्रशासन दोनों ही पूरी तरह से धृतराष्ट बन चुके हैं…

जो साफ इशारा करता है … कि जिस तरह से ज़िला विकास प्राधिकरण के सचिव श्रीश कुमार को Transfer किया गया…वो शासन की नीति का नहीं बल्कि एक ख़ास रणनीति का एक अहम हिस्सा था…रसूख़दार लोगों के हाथों की कठपुतली बन चुकी सरकार के तबादला  फैसले ने जहां  अधिकारियों का मनोबल तोड़ा है,वहीं जनता के भरोसे को भी छला है…और उससे भी बड़ी बात ये, कि अपने पहाड़ के साथ धोखा किया है…जिस पहाड़ पर अवैध निर्माण को रोकना शासन का पहला दायित्व था…सरकार ने उसे खुली छूट दे दी…

जो साबित करती है, कि सत्ता केबल रसूखदार हाथों की कठपुतली है…पहाड़ खत्म हो…आपदा आये…लोग जान से हाध गवांये…लेकिन सरकार को कोई मतलब नहीं…क्योंकि दाज्यू ये तो ” धृतराष्ट्र सरकार ” हैं… 

Share, Likes & Subscribe

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *