हल्द्वानी लाइव – ये क्या होता जा रहा है अपने हल्द्वानी को। इंसान की खाल में भेंड़िए छुपे हुए हैं हमारे आस-पास। कोरोना के चलते लगातार घर में बैठे बैठे इंसान के अंदर शैतान की रूह घुस चुकी है।अगर ऐसा न होता, तो जो हुआ है न गौलापार वो कभी न होता।

उस रोज़ सभी बच्चे घर के आस पास खेल रहे थे। हां-हां मैंने भी देखा था उन्हें खेलते हुए। कोरोना का तो जैसे डर ही निकल गया हो। उसी रोज़ की तो बात है अरे 18 तारीख़ की, अरे इसी 18 सितंबर की, शुक्रवार था उस रोज़। लेकिन वो शुक्रवार उस मासूम की जिंदगी का ब्लैक-फ्राइ-डे बन गया।

गौलापार के शांत इलाके में वो अपने भरे-पूरे परिवार के साथ रह रही थी। खुश थी बहुत कि उसे बाहर जाने को मिल रहा था। अब वो चाहें ट्यूशन वाली मास्टरनी के यहां ही क्यों न जाना हो, लेकिन वो बाहर निकल रही थी, खुली हवी में सांस ले पा रही थी, वरना कोरोना ने बच्चों की चंचलता पर ही ब्रेक लगा दिये हैं।

जो जानकारी सामने आ रही है, उसके मुताबिक वो मासूम हर रोज़ की तरह 18 सिंतंबर को भी शाम के वक्त अपनी ट्यूशन वाली टीचर के यहां जा पहुंची। हर वक्त मुस्कुराने वाली वो टुन्नु ( काल्पनिक नाम ) छठी में पढ़ रही थी। कोरोना में पढ़ाई का बहुत नुकसान हो चुका था, तो घर वालों ने टुन्नू को पास ही रहने वाली टीचर के यहां ट्यूशन के लिए भेजना शुरू कर दिया।

जानकारी के मुताबिक 18 सितंबर शुक्रवार के रोज़ भी टुन्नू खेलती कूदती अपनी उसी टीचर के यहां जा पहुंची। लेकिन उस रोज़ टीचर जी घर पर थी ही नहीं। घर पर मौजूद थी टीचर का पति मोहित। आरोप है कि इसी मोहित ने मासूम टुन्नू को बहला-फुसलाकर घर पर ही रोक लिया। और उसकी मासूमियत को तार-तार कर दिया।

मासूम टुन्नू इस दरिंदगी के बाद जब घर लौटी तो उसने अपने साथ हुई बहशियाना हरकत की सारी दास्तां मां को बताई।   

File Picture Credit – Google

इसके बाद 19 सितंबर को 6वीं में पढ़ने वाली टुन्नू के भाई ने काठगोदाम थानाध्यक्ष नंदन सिंह रावत को अपनी मासूम बहन के साथ हुई दरिंदगी की पूरी वारदात को बताया। पुलिस ने फौरन एक्शन लिया और धारा 376 पॉस्को एक्ट के तहत टीचर के बहशी पति मोहित के खिलाफ़ मुकदमा दर्ज कर लिया।

अगले दिन यानि 20 सितंबर इतवार को पुलिस ने आरोपी मोहित को उसके घर से ही गिरफ्तार कर लिया। जिसके बाद मामले की जांच अधिकारी कुमकुम धनिक ने आरोपी को अदालत में पेश कर उसे जेल भेज दिया।

Picture Credit : Google

बहरहाल 6ठी में पढ़ने वाली मासूम टुन्नू का मेडिकल कराया गया है। साथ ही पुलिस ने धारा 164 के तहत टुन्नू के बयान भी दर्ज कर लिये हैं, जिन्हें अब जांच टीम न्यायालय में पेश करेगी।

अगर आप भी अपने बच्चे को इस तरह लोगों के यहां ट्यूशन भेजते हैं तो टुन्नू के साथ हुई दरिंदगी से कुछ सीख लें। और बच्चे की सुरक्षा की हर एंगल से जांच करने के बाद ही उसे इस तरह बाहर ट्यूशन पर भेजें।         

Share, Likes & Subscribe