हल्द्वानी लाइव – उत्तराखंड में लोकसभा चुनाव को लेकर भाजपा और कांग्रेस में घमासान जारी है। आरोप-प्रत्यारोप का शोर हर तरफ सुनाई दे रहा है। कोई कह रहा है पप्पू तो कोई कहे चौकीदार ही चोर। लेकिन आम जनता को इस सबसे ऊपर उठकर सोंचना होगा। बहरहाल कांग्रेस ने अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया है। और नारा दिया है ग़रीबी पर वार 72 हज़ार ।

कांग्रेस का घोषणा-पत्र राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने जारी किया। इस घोषणा पत्र को नाम दिया गया है हम-निभाएंगे। घोषणा पत्र के बारे में राहुल का कहना है कि उन्होंने इस घोषणा पत्र को जनता के बीच जाकर उनकी मांगों को समझकर ही बनाया है। इसीलिए घोषणा पत्र में जनता की मांगों को सबसे ज्यादा जगह दी गई है।

राहुल गांधी ने घोषणा पत्र जारी करते वक्त बताया कि हमने घोषणा पत्र को बंद कमरे में बैठकर नहीं बनाया। बल्कि जनता के बीच जाकर उनकी तमाम मांगों और समस्याओं को सुना और फिर घोषणा पत्र को रूप दिया, हम निभाएंगे का। राहुल की माने तो मौजूदा वक्त की सरकार में जनता को न्याय नहीं मिल रहा। इसीलिए कांग्रेस के घोषणा पत्र की थीम न्याय पर आधारित है। क्योंकि उन्होंने देश के प्रधानमंत्री के तमाम झूठों को पकड़ा उन्हें सामने लाए और जनता की राय को भी जाना। यही वजह है कि कांग्रेस ने जनता से घोषणा पत्र में वादा भी किया है और उसी को नारा भी दिया है ग़रीबी पर वार 72000

लोकसभा चुनावों के लिए पार्टी का घोषणा पत्र जारी करते वक्त भी राहुल के तेवर केंद्र सरकार पर तीखे ही रहे। राहुल ने बेरोज़गारी पर सरकार को घेरते हुए कहा कि देश का युवा भारी तादात में बेरोज़गार है, किसी को रोज़गार नहीं मिल रहा। लेकिन अगर कांग्रेस पार्टी सरकार बनाती है तो 22 लाख पदों को साल 2020 तक भर देगी। और 3 साल तक देश के युवाओं को कोई व्यापार खोलने की जरूरत नहीं पड़ेगी। क्योंकि एक साल में 72000 और 5 साल में 3 लाख 60 हज़ार देने का जो वादा किया है वो सीधे किसानों और गरीबों की जेब में जाएगा।

राहुल यहीं नहीं रुके, केंद्र सरकार पर लगातार निशाना साधते हुए राहुल ने कहा कि जो काम भाजपा नहीं कर सकती वो हम कर सकते हैं। कांग्रेस पार्टी जनता से झूठे वादे नहीं करती बल्कि उन्हें कह कर पूरा करती है, जैसे किसानों की कर्ज म़ॉफी । और यही वजह हे कि कांग्रेस ने ये भी वादा किया है कि अगर किसान कर्ज अदा नहीं कर पाये तो उन पर आपराधिक मामला दर्ज नहीं होगा।

वहीं दूसरी ओर कांग्रेस का घोषणा पत्र जारी होते ही भाजपा ने इस घोषणा पत्र के प्रारूप पर ही सवाल खड़े कर दिये। चुनाव प्रचार के लिए हल्द्वानी पहुंचे केंद्रीय मंत्री थावर चंद गहलोत ने कांग्रेस के इस घोषणा पत्र को बता दिया झूठ का पुलिंदा। गहलोत ने साल 2004 और 2009 का ज़िक्र करते हुए उस वक्त जारी हुए कांग्रेस के घोषणा पत्र पर भी निशाना साधा। गहलोत ने कहा कि कांग्रेस ने उस वक्त अपने मेनिफेस्टो में महिलाओं को 30 फीसदी आरक्षण की बात कही थी, लेकिन आज उसका कहीं कोई अता पता तक नहीं। गहलोत इतने पर ही नहीं रुके उन्होंने कांग्रेस के घोषणा पत्र को विरोधी गतिविधियों में संलिप्त लोगों को संरक्षण देने वाला बताया। साथ ही कांग्रेस को देश हित में काम करने की नसीहत भी दे डाली।

Share, Likes & Subscribe