“अलविदा-चांदनी” , सदमें मेंं बॉलीवुड

Bollywood film actress Sridevi Kapoor died in Dubai at the age of 54

 

Filmy Teaser 80 के दशक में सिल्वर स्क्रीन पर अपनी हिरनी जैसी खूबसूरत आंखों, आवाज़ और अदाओं  का जलवा बिखरने वाली बॉलीवुड की ख़ूबसूरत अदाकारा, श्रीदेवी अब हमारे बीच नहीं रहीं। दुबई में Heart Attack के चलते हम सबकी फेवरेट श्रीदेवी ने दुनिया को अलविदा कह दिया।

55 साल की श्रीदेवी दुबई में एक पारिवारिक शादी समारोह में शरीक होने पहुंची थीं। उनके साथ उनके पति बोनी कपूर और छोटी बेटी खुशी कपूर भी साथ थे।जबकि बड़ी बेटी जान्हवी शुटिंग के चलते मुंबई में ही थीं।

 

13 अगस्त 1963 को तमिलनाडु के शिवकाशी में जन्मी श्रीदेवी का असली नाम श्री अम्मा यांगर अयप्पा था। बतौर भारतीय सिनेमा की नायिका और फल्म प्रोड्यूसर के तौर पर अपनी अमिट पहचान बनाने वाली श्रीदेवी का इस तरह अचानक दुनिया को अलविदा कह देना, उनके फैन्स के लिए एक बड़ा सदमा है। तमिल, तेलगू, हिंदी, मलयालम, कन्नड फिल्मों में श्रीदेवी ने बतौर हीरोईन और प्रोड्यसर काम किया।

बॉलीवुड में सम्मान के तौर पर श्री देवी को पहली महिला सुपर-स्टार के तौर पर देखा जाता था। भारतीय सिनेमा में अपने अमिट अभिनय की छाप छोड़ने वाली श्रीदेवी ने चाइल्ड आर्टिस्ट के तौर महज 4 साल की उम्र में भारतीय फिल्म जगत में कदम रखा था।

खूबसूरत और तीखे नैन-नक्श वाली श्रीदेवी ने महज 13 साल की उम्र में ही मोंद्रू मुदिचू नाम की तमिल फिल्म में बालिग की भूमिका निभाई। इसभूमिका में श्रीदेवी ने अपने अभिनय से हर किसी का मन मोह लिया।

बॉलीवुड में सन् 1978 में श्रीदेवी मुख्य नायिका की भूमिका में पहली बार नज़र आई। ये फिल्म थी सोलहवां-सावन। इसके बाद 1983 में हिम्मतवाला फिल्म में अपनी अदाकारी को लेकर श्रीदेवी ने खूब वाह-वाही लूटी। इसके बाद इस खूबसूरत हसीना ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा।

मवाली ( 1983 ) । सदमा ( 1983 ) । तोहफा ( 1984 ) । नया कदम ( 1984 )

मकसद ( 1984 ) । मास्टरजी ( 1985 ) । नगीना ( 1986 ) । नजराना ( 1987 )

मि. इंडिया ( 1987 ) । वक्त की आवाज़ ( 1988 ) । चांदनी ( 1989 ) । चालवाज ( 1989 )

लम्हें ( 1991 ) । खुदा गवाह ( 1992 ) । लाडला ( 1994 ) । जुदाई ( 1997 )

भारतीय सिनेमा की ये वो फिल्में हैं जिनमें खूबसूरत अदाकारा श्रीदेवी ने अपनी अदाकारी से सिल्वर स्क्रीन पर एक छत्र राज किया।

सन् 2012 में करीब 15 साल बाद एक बार फिर श्रीदेवी ने सिल्वर स्क्रीन पर अपने कदम रखे और इँग्लिश-विंग्लिश से वापसी की ।

 

– ऑवार्ड –

पदमश्री – 2012

          फिल्म-फेयर-अवॉर्ड – 5 ( 10 बार नॉमिनेशन )

80 के दशक में भारती सिनेमा जगत में श्री देवी नौजवानों के दिलों की धड़कन हुआ करती थीं। उनकी फिल्म आते ही सिनेमा घरों के बाहर हाउस-फुल के बोर्ड लग जाया करते थे। सन् 2013 में CNN-IBN National pool में दिलकश अदाओं वाली श्रीदेवी को उनके फैंसन्स फालोइंग के चलते India’s Greatest Actress in 100 Years लिए वोट किया गया।

पारिवारिक जिंदगी –

श्रीदेवी के पिता अय्यपन तमिल थे जबकि मां राजेश्वरी तेलगू थीं। पिता अय्यपन पेशे से एक वकील थे और उनके परिवार में एक बहन और दो सौतेले भाई थे। 80 के दशक में जब अदाकारा श्रीदेवी का जलवा बॉलीवुड में सिर चढ़कर बोल रहा था, तभी उनके अफेयर की बातें सामने आईं।

अफेयर किसी और से नहीं बल्कि उस वक्त के सुपर स्टार मिथुन चक्रवर्ती से था।  दोनों ने चुपचाप गुपचुप तरीके से शादी भी कर लीथी। जिसका खुलासा खुद कुछ वक्त बाद मिथुन चक्रवर्ती ने किया था। लेकिन ये शादी ज्यादा वक्त तक नहीं चल सकी और मिथुन श्रीदेवी के बीच तलाक हो गया।

इसके बाद श्रीदेवी ने उस वक्त के नामचीन फिल्म प्रोड्यूसर बोनी कपूर से शादी कर ली। शादी पूरे धूम-धाम से हुई।

बॉलीवुड फिल्म प्रोड्यूसर कपूर एक्टर अनिल कपूर और संजय कपूर के बड़े भाई हैं।

श्रीदेवी को बोनी कपूर से दो बेटियां हुईं। जाह्नवी और खुशी।जाह्नवी की फिल्म अगले महीने रिलीज होने को है।

हमेशा मुस्कुराने वाली श्रीदेवी का यूं अचनाक इस तरह चले जाना भारतीय फिल्म जगत के लिए एक बड़ा झटका है।

Filmy Teaser परिवार आपको भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करता है। ईश्वर से प्रार्थना करता है कि आपके परिवार को ईश्वर इस दुख को सहने की शक्ति प्रदान करें।

चांदनी-और मेरी चांदी। तुम जहां भी रहो वहां से अपनी मुस्कुराहट बिखेरती रहना। बहुत याद आओगे।

Share, Likes & Subscribe

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *